Followers

Thursday, 26 September 2019

कसक

यूं तो राब्ता था लाखों से इस जिंदगानी में,

मगर वही अलहदा थे जो नसीब में नहीं थे ...

                                          - निखिल

No comments:

Post a comment